बड़े-बड़े इंजीनियर हुए फेल, मुस्लिम मिस्त्री ने स्थापित करवाया ढाई टन का शिवलिंग

मध्य प्रदेश के मंदसौर के प्रसिद्ध भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदिर में ढाई टन के शिवलिंग की स्थापना की जा रही है. शिवलिंग की इसकी लंबाई और गोलाई 6.50 फीट है. ढाई टन के शिवलिंग को जलधारी यानि जिल्हारी में क्रेन की मदद से स्थापित किया जाना था. इसके लिए प्रशासन ने पीडब्ल्यूडी, पीएचई, जिला पंचायत समेत सभी विभागों के इंजीनियरों को बुलाया लेकिन कोई भी ये बात नहीं सुझा पाया कि शिवलिंग को किस तरह जिल्हारी पर उतारा जाए. इसके बाद इस काम को वहां पर मौजूद एक ऐसे मुस्लिम मिस्त्री ने किया जो कभी स्कूल नहीं गए.

जब अधिकारियों और इंजीनियर्स से इस समस्या का हल नहीं निकल पाया तो अंत में मकबूल ने एक ऐसा तरीका बताया जो पहले किसी के दिमाग में नहीं आया था. मकबूल कभी स्कूल नहीं गए. इसके बाद भी उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर इस समस्या का हल निकाला. मकबूल ने ये उपाय सुझाया कि शिवलिंग को जिलहरी में जिस जगह स्थापित करना है वहां पर अगर बर्फ रख दिया जाए तो जिल्हरी को भी कोई नुकसान नहीं होगा और शिवलिंग भी सुरक्षित रहेगा. इसके बाद बर्फ पिघलने के साथ भगवान शिव जिलहरी में प्रवेश करते जाएंगे.

कोई और रास्ता ना देखते हुए सबने मकबूल की बात मान ली और उनका तरीका काम आ गया. इंजीनियरों को घंटों से परेशान करने वाली समस्या को मकबूल ने चुटकी में सुलझा दिया. उनकी सूझबूझ से शिव सहस्त्रेश्वर महादेव जिल्हरी में स्थापित हो गए. बाद में मकबूल ने मीडिया से कहा कि अल्लाह ईश्वर एक ही है और मुझे बहुत खुशी है कि मेरे हाथों से यह पुनीत काम हुआ है.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles